Sunday, December 11, 2011

सिखाती तो नाकामी ही है

रविवासरीय हिन्दुस्तान (11 - 12- 2011) के एडिट पेज पर मेरा कॉलम






सिखाती तो नाकामी ही है

इन्फोसिस के जनक एन आर नारायण मूर्ति अब रिटायर हो गए हैं, लेकिन शैक्षणिक और सामाजिक गतिविधियों के कारण वे लगातार चर्चा में हैं. उन्होंने तीस साल पहले, 1981 में दस हज़ार रुपये की पूंजी से इन्फोसिस शुरू की थी, जिसका टर्नओवर आज तीस हज़ार करोड़ रुपये से भी अधिक है. किंवदंती बन चुके नारायण मूर्ति हमेशा ही कुछ नया करने, अपने जीवन में मूल्यों को महत्व देने, गांधीवाद को अपनाने और सही वक़्त पर पद छोड़ने के पैरोकार रहे हैं. उन्हें शीर्ष शिक्षा संस्थान विद्यार्थियों को मार्गदर्शन देने के लिए बुलाते हैं, जहाँ वे अपने अनुभवों को बाँटते हैं.

नारायण मूर्ति के प्रमुख भाषणों में से यह भाषण भी है जिसमें उन्होंने युवाओं से कहा था -- अपने कर्म से प्रेम करो, कंपनी से नहीं; क्योंकि आप यह नहीं जानते कि कंपनी कब आपसे प्रेम करना बंद कर देगी!

आराम भी ज़रूरी है, काम की तरह

''मैं ऐसे लोगों को जानता हूँ, जो सप्ताह में छह दिन रोजाना 12 घंटे या उससे भी ज्यादा कार्य करते हैं, क्योंकि इमर्जेन्सी में उन्हें यह करना पड़ता है. यह कुछ ही दिनों के लिए होता है. ऐसे लोग भी होते हैं जो इतने या इससे भी ज्यादा समय कार्यालय में बिताते हैं...यह कोई अच्छी बात नहीं है. जब कार्यालयों में लोग लम्बे समय तक रहते है, वे ज्यादा गलतियाँ करते हैं और फिर उन्हें सुधारने में ही काफी वक़्त लग जाता है. वे लोग आपस में शिकायतें करते हैं, जिसका कोई अच्छा नतीजा नहीं निकलता.

मेरी सलाह है कि हमें अपने जीवन में संतुलन बनाये रखना चाहिए. मेरी राय में यह दिनचर्या लाभदायक हो सकती है : (1 ) सुबह उठो, तैयार होओ, अच्छा नाश्ता करो और ड्यूटी पर जाओ. (2 ) ड्यूटी पर आठ या नौ घंटे जमकर, स्मार्ट तरीके से कार्य करो. (3 ). घर वक़्त पर पहुँचो. (4 ). परिवार को समय डॉ, बच्चों से खोलो, किताबें पढ़ो. टीवी देखो वगैरह वगैरह. (5 ). अच्छी तरह भोजन करो और बढ़िया नींद लो.

याद रखो -- जो लोग ऊपर लिखे पहले, तीसरे, चौथे या पांचवे कार्य को ठीक से नहीं कर पाते, वे दूसरे कार्य यानी ड्यूटी ठीक से नहीं कर पाते.

जो लोग देरी से घर पहुंचाते हैं, उनका परिवार इसकी कीमत अदा करता है.

कई लोगों को लगता है कि अगर वे ऑफिस में ना रहें तो कुछ अनहोनी हो जाएगी. ...और उन्हें यह लगता ही रहता है, ऐसी अनहोनी कभी नहीं होती.
बेहतर है कि आप आराम के वक़्त आराम और काम के वक़्त काम करें. आपका आराम भी ज़रूरी है. आप आराम करेंगे, तभी बेहतर कार्य कर सकेंगे. इसीलिये मैं यह कहता हूँ कि अपने कर्म से प्रेम करो,कंपनी से नहीं; क्योंकि आप यह नहीं जानते कि कंपनी कब आपसे प्रेम करना बंद कर देगी!
खुद के अनुभव से सीखें
नारायण मूर्ति ने अपने खुद के अनुभव से सीखने को बेहद महत्वपूर्ण करार दिया है. न्यू यॉर्क विश्वविद्यालय में दिए गए एक भाषण में उन्होंने कहा था --''आप कैसे और क्या सीखते हैं यह महत्वपूर्ण है, यह नहीं कि आपने कहाँ सीखा? अगर सीखने की क्षमता और गुणवत्ता अच्छी है तो यह बात ज्यादा फायदे की है.'' इसी भाषण में उन्होंने कहा --''सफलताओं से सीखना ज्यादा कठिन है, बनिस्बत असफलताओं के. क्योंकि जब भी हम नाकाम होते हैं, हम उसके बारे में गहनता से सोचते हैं. कामयाबी मिलने पर प्राय: ऐसा नहीं होता.'' असफलता हमारे विचारों को उद्वेलित कर देती है और सफलता हमारे सभी पुराने फैसलों को सही ठहराते हुए आगे बढ़ने को प्रेरित करती है.

दरअसल हमारा दिमाग इस तरह से विकसित होता है कि अगर हमारे सामने कोई चुनौती आये तो हम उसे टालने का यत्न करेंगे. हम हमेशा उपयोगी लेकिन नकारात्मक सलाहों को नज़रअंदाज़ कर देते हैं. जो लोग चुनौतियों और अपनी आलोचनाओं से सीखना जानते हैं वे ही कामयाबी की सीढ़ियाँ चढ़ पाते हैं. याद रखिये, हमारे जीवन कि सबसे बड़ी, महत्वपूर्ण और निर्णायक घटना यही होती है कि हम संकट के पलों में प्रतिक्रिया कैसे व्यक्त करते है? हमारी यही भूमिका सबसे बड़ी और महत्वपूर्ण है.
भारतीय परंपरा का महत्व
नारायण मूर्ति भारतीय परंपरा को बहुत महत्व देते हैं. हमारी परंपरा आत्म ज्ञान की है. यही ज्ञान का सबसे बड़ा प्रकार है. आत्म ज्ञान है क्या? यह है अपने बारे में जानना है. यह अपने आप को भीतर तक जाकर समझना है. आप अपने आप में कितना यकीन करते हैं? आपमें हौसला है क्या? और इस सबसे ऊपर यह कि मानवता का कितना अंश आपमें जीवित है? अगर आपमें मानवता का अंश नहीं बचा है तो आप कभी भी अपनी सफलता को गरिमामाय तरीके से प्राप्त नहीं कर पाएंगे. मैं अपने अनुभवों के आधार पर कह सकता हूँ कि अनुभवों से सीखना इस बात पर निर्भर है कि आप अपने दिमाग को किस दिशा में लेकर जा रहे हैं? आप में अपने आप को बदलने की कितनी इच्छा और कूवत है? घटनाओं पर आप के दिमाग में कब, कौन सी और कितनी तेज़ प्रतिक्रियाओं की बिजली कौंधती है?

कुछ साल पहले मैं शून्य था. आज मैं कामयाब हूँ.. मेरे जीवन में आनेवाले हर रोड़े ने, रास्ते के हर पत्थर ने मुझे सफलता की राह सुझाई है. यही रुकावटें थीं कि मैं आज सफल हो सका. मैं यह मानने को कतई तैयार नहीं कि हमारा भवितव्य पहले से तय होता है. हम क्या करेंगे, क्या बनेंगे यह हम ही तय करते हैं. क्या आप यह मानते हैं कि आपका भविष्य लिखा जा चुका है या आप यह मानते हैं कि उसे अभी लिखा जाना है और भविष्य क्या होगा यह तय करेंगे कुछ हालात? क्या आप यह मानते हैं कि वे हालात आपके जीवन में निर्णायक घडी होंगे? क्या आपको लगता है कि आप अपनी कामयाबी की किताब खुद, स्वर्णाक्षरों में लिख सकते हैं? आप उस किताब को और भी सुन्दर, यादगार और महान बना सकते हैं? मैं यह मानता हूँ कि आप यह समझते हैं कि आपका भविष्य अनेक निर्णायक मोड़ों और शिक्षाप्रद संभावनाओं के मध्य से गुजरेगा. मैं इसी रास्ते से होकर गुजरा हूँ. यह बड़ा ही सुखकर रास्ता है, बड़ा ही दिलचस्प और उम्मीदों से भरा.
आपके निशां होंगे ज़माने पर

नारायण मूर्ति युवाओं के लिए आश्वस्त हैं उन्हें भरोसा है कि युवा वक़्त की रेत पर अपने निशां ज़रूर छोड़ेंगे. आप सब यह बात ज़रूर याद रखिये कि हम सब अपनी आनेवाली पीढ़ी के लिए अभिरक्षक या रखवाली करनेवाले हैं. हम चाहे कुछ भी उपलब्धि प्राप्त कर लें, कोई भी संपत्ति बना लें या साम्राज्य ही क्यों न खड़ा कर लें, चाहे वह आर्थिक, बौद्धिक, भावनात्मक उपलब्धि ही क्यों न हो, हम होंगे तो उसके कस्टोडियन या अभिरक्षक ही. आपके पास जो भी सम्पदा हो, उसका सर्वोत्तम उपयोग यही है कि आप उसे उन लोगों के साथ बाँटें जो कम सौभाग्यशाली हैं. मैं यकीन करता हूँ कि आप इस बात से वाकिफ हैं कि हम जो फल आज खा रहे हैं, उसे देने वाले पेड़ हमने नहीं लगाये. उनके पौधे हमने नहीं रोपे. उनके बीजों को हमने अंकुरित नहीं किया. अब यह हमारी बारी है कि हम उन पेड़ों को लगाने की तैयारी करें, जिनके फल शायद हम जीते जी नहीं खा पाएंगे, लेकिन व्यापक रूप में हमारी आनेवाली नस्लें उसका फायदा ले पाएगी. ऐसे पेड़ों को अंकुरित करना, रोपना और बड़ा करना हमारी पद्मपावन जवाबदारी है.

नारायण मूर्ति हमेशा यही कहते हैं कि मैं एक साधारण इंसान हूँ और मैंने भी कई गलतियाँ की हैं, मैं भी नाकाम हुआ हूँ, लेकिन मैं हर बार संभाला हूँ और कुछ नया, बेहतर और उपयोगी करने की कोशिश करता रहा हूँ.

प्रकाश हिन्दुस्तानी

दैनिक हिन्दुस्तान 11- 12- 2011 के अंक में प्रकाशित
Post a Comment