Wednesday, October 21, 2015

परीक्षा एक माह पहले ; सिंहस्थ में विद्यार्थी होंगे तनावमुक्त


सिंहस्थ 2016 (17) 

22 अप्रैल से 21 मई 2016 तक सिंहस्थ का आयोजन होने वाला है। यह वह वक्त होता है, जब विद्यार्थी परीक्षा की तैयारी में व्यस्त होते हैं। सिंहस्थ के दौरान बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं का प्रदेश में आना होता है और उनमें से कई लोग अपने रिश्तेदारों के यहां रुकते भी हैं। माध्यमिक शिक्षा मंडल और इंदौर के देवी अहिल्या विश्वविद्यालय में सिंहस्थ को देखते हुए विद्यार्थियों को तनावमुक्त रखने का फैसला किया है। मार्च तक 10वीं और 12वीं की बोर्ड की परीक्षाएं और विक्रम तथा देवी अहिल्या विश्वविद्यालय की अन्य वार्षिक परीक्षाएं भी ले ली जाएंगी। बोर्ड की परीक्षाएं इस बार एक महीने पहले शुरू हो जाएंगी और फरवरी तथा मार्च के महीने परीक्षाओं के होंगे। सिंहस्थ के मद्देनजर शिक्षण सत्र को एक महीने पहले ही खत्म करने का लक्ष्य रखा गया है। 

पहली कक्षा से लेकर 12वीं तक के विद्यार्थियों को इस शिक्षण सत्र में परीक्षाएं लेकर पहले ही मुक्त कर दिया जाएगा। जिला बोर्ड और विद्यालयों की परीक्षाएं भी मार्च तक खत्म करने का लक्ष्य है। इससे विद्यार्थी तो तनावमुक्त रहेंगे ही, वे खुद भी सिंहस्थ की गतिविधियों में शामिल हो सकेंगे। 

सिंहस्थ को देखते हुए विश्वविद्यालय प्रशासन ने भी परीक्षाएं पहले कराने का निर्णय लिया है। उज्जैन का विक्रम विश्वविद्यालय तो पहले परीक्षा करा ही रहा है, इंदौर का देवी अहिल्या विश्वविद्यालय भी सिंहस्थ को देखते हुए जल्दी परीक्षा कराने की तैयारी में है। स्नातक कक्षाओं का चौथे सेमेस्टर का रिजल्ट पिछले दिनों ही जारी हुआ है। अब नवंबर में पांचवें सेमेस्टर की और मार्च में छठें सेमेस्टर की परीक्षाएं कराने की योजना है। स्नातकोत्तर कक्षाओं के विद्यार्थियों को भी स्नातक पाठ्यक्रम के पांचवें सेमेस्टर के साथ ही बैठने का मौका मिलेगा और मार्च में उनका भी छठां सेमेस्टर सम्पूर्ण हो जाएगा। 

विश्वविद्यालयों की कोशिश है कि इस बार परीक्षा परिणाम भी जल्दी से जल्दी जाहिर कर दिए जाए। लक्ष्य है कि परीक्षा समाप्त होने के 15 दिनों के भीतर रिजल्ट विद्यार्थियों को सौंप दिए जाए। प्रोफेशनल कोर्सेस के परीक्षा कार्यक्रमों में खास परिवर्तन नहीं किए जा रहे है, क्योंकि वहां विद्यार्थी सीमित संख्या में होते हैं। एमबीए, एमसीए, एमबीबीएस, बीडीएस जैसे प्रोफेशनल कोर्सेस में विद्यार्थियों को ज्यादा परेशानी न हो, इसकी कोशिश भी की जा रही है। 


सिंहस्थ मेला क्षेत्र में किसानों की जमीनों का अधिग्रहण अस्थायी तौर पर किया गया है। उन स्थानों पर विकास कार्य जारी है और प्लॉट काटने का काम चल रहा है। यह प्लॉट अस्थायी तौर पर दिए जाने है। किसानों को सिंहस्थ के दौरान फसल की हानि के कारण होने वाले नुकसान की भरपाई की जा रही है। इसलिए सभी किसानों से अपील की गई है कि वे अपनी पासबुक संबंधित पटवारी के पास जमा करे, ताकि उनके मुआवजे की राशि उनके खाते में जमा की जा सके। 

पश्चिम रेलवे ने उज्जैन और शाजापुर जिले के उज्जैन शहर से करीब के स्टेशनों पर विशेष व्यवस्था करना शुरू किया है। सिंहस्थ को ध्यान में रखते हुए जो ओवरब्रिज बनाए जा रहे है, उनका काम तेज गति से चल रहा है। उज्जैन के करीब चिंतामणि गणेश रेलवे क्रासिंग और जीरो प्वाइंट पर लोक निर्माण विभाग ने अपना कार्य पूरा कर लिया है। एमआर-10 और एमआर-5 पर टू लेन ब्रिज भी बनाए जा रहे है और यह दिसंबर तक पूरे हो जाएंगे।

--प्रकाश हिन्दुस्तानी
Post a Comment